copyright. Powered by Blogger.

नमकीन खीर

>> Monday, 31 October 2011



मेरे 
ज़ख्मों पर 
छिडकते  हो 
जब भी नमक ,
तो 
खाने  में 
झर जाता है 
नमक सारा
और 
नमकीन हो जाती है 
खीर भी .



Read more...

आंसू और बारिश

>> Friday, 21 October 2011




मिलते होंगे 
लोगों को 
न जाने 
कितने कंधे 
रोने के लिए ,
मुझे तो 
बारिश से 
मुहब्बत है 
जो निभाती  है 
हर बार 
मेरा साथ .



Read more...

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP