copyright. Powered by Blogger.

तल्ख स्मृतियाँ ( हाइकु )

>> Tuesday, 14 May 2013



कड़वी यादें 
  चीर देती हैं  सीना 
     मैं हुयी मौन  ।

************

पीड़ित यादें 
  झटक ही तो दीं थीं
    पीले पत्ते सी । 

******************

विष से बुझा 
  याद है  व्यंग्य  बाण
     मरा मेरा   'मैं' ।

*****************

तल्ख स्मृतियाँ 
   जेहन में घूमतीं 
      चैन न आए । 

*****************

खुद से जंग 
  जंगरहित यादें 
     निज़ात नहीं .... 

***************


Read more...

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP