copyright. Powered by Blogger.

बरगद !!!!

>> Saturday, 8 May 2021

 


ज़िन्दगी की धूप  में



राही  बढ़ जाता है आगे

छाँव  की तलाश में

और

बरगद

अपनी बाहें फैलाये

रह जाता है

एक जगह

ठिठका सा .





Read more...

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP