copyright. Powered by Blogger.

>> Sunday, 2 November 2008

बेचैनिया हद से गुज़र जाती हैं तो
खलिश बन जाती हैं
बेबसी जब बाँध लगाती है तो
चुभन बन जाती है
वक्त को कब कौन रोक पाया है
ऐ मेरे दोस्त
जब वक्त साथ न दे तो
बेवफाई बन जाती है .

Read more...

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP