copyright. Powered by Blogger.

मन समंदर

>> Thursday, 24 May 2012



लहरें तो आती जाती हैं 
दुख सुख का भी हाल यही 
फिर हम इतना क्यों सोचें  
बस मन समंदर करना है , 

मोती सीपों में मिल जाते 
पर गोता खुद लगाना है 
श्रम से फिर क्यों भागें हम 
बस तन अर्पण  करना है 

 पैसा तो आना जाना है 
 इसके पीछे हैं पागल लोग 
क्यों हम पागल हो जाएँ 
बस मन मंदिर करना है । 


Read more...

माँ की याद .... कुछ हाइकु रचनाएँ ...

>> Sunday, 13 May 2012



माँ का आँचल 
आज भी लहराता 
सुखद यादें ।

******************
मीठी निबौरी 
माँ  की  फटकार 
गुणी औषध ।

**************
माँ का लगाया 
काजल का दिठौना
याद है मुझे 

*****************
राह तकते
करती  इंतज़ार 
माँ की नज़र ।

***************
माँ का  आशीष 
महसूस करूँ मैं 
यही चाहना ।
*******************




Read more...

.ना बोले तुम ना मैंने कुछ कहा.. ( तांका )

>> Monday, 7 May 2012





घना सन्नाटा 
मौन की चादर  में 
दोनों लिपटे 
न तुम कुछ  बोले 
न ही मैं कुछ  बोली 

लब खुलते 
गिरह ढीली होती 
मन मिलते 
कुछ मोती झरते 
कुछ दंश हरते ।

गहन घन 
छंट जाते पल में 
उजली रेखा 
भर देती  मन में 
अनुपम उल्लास ।

 

तांका  में  पाँच पंक्तियाँ होती हैं ..... जिनमें वर्णो  की संख्या ..... 5-7-5-7-7  होती है । 

Read more...

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP