copyright. Powered by Blogger.

दीप बन कर देखो .... / हाइकु

>> Monday, 12 November 2012






मन का दीप 
रोशन कर देखो 
खुशी ही खुशी 



माटी का दिया 
एक रात की उम्र 
ज्योति से भरा ।


आम आदमी 
लगा रहा हिसाब 
कैसे हो पर्व ? 


लगाएँ बाज़ी 
परंपरा के नाम 
पत्तों का खेल । 


बम - पटाखे 
क्षण भर की खुशी 
धुआँ ही धुआँ ।


दीयों की बाती 
उजियारा  फैलाती 
स्वयं  जलती । 

दीपावली की  सभी को हार्दिक शुभकामनायें ।

43 comments:

ऋता शेखर मधु Mon Nov 12, 08:21:00 am  

दिवाली की आशा, खर्च, बुराई, त्याग...सब कुछ कहते सुंदर हाइकु...
आपका दिवाली ग्रीटिंग्स बहुत पसंद आया,शुक्रिया|

नगर नगर दीप जले
घर घर हों खुशियाँ
हर दिल में प्यार पले

दीपावली की ढेर सारी शुभकामनाओं के साथ
ऋता

smt. Ajit Gupta Mon Nov 12, 09:18:00 am  

आपको भी दीपावली की शुभकामनाएं।

दीर्घतमा Mon Nov 12, 09:44:00 am  

दीपावली की बहुत सारी शुभकामनाये -----सम- सामयिक .

पी.सी.गोदियाल "परचेत" Mon Nov 12, 10:18:00 am  

बम - पटाखे
क्षण भर की खुशी
धुआँ ही धुआँ ।

जीवन सार ! दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये आपको और आपके समस्त पारिवारिक जनो को !

Manu Tyagi Mon Nov 12, 10:19:00 am  

बहुत बढिया । आपको दीपावली की शुभकामनायें

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया Mon Nov 12, 10:35:00 am  

बहुत खूबसूरत प्रस्तुति,,,,
दीपावली की ढेर सारी शुभकामनाओं के साथ,,,,
RECENT POST:....आई दिवाली,,,100 वीं पोस्ट,

म्यूजिकल ग्रीटिंग देखने के लिए कलिक करें,

"अनंत" अरुन शर्मा Mon Nov 12, 10:53:00 am  

दीप पर्व की परिवारजनों संग हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं.

Vaanbhatt Mon Nov 12, 11:11:00 am  

तमसो मा ज्योतिर्गमय...शुभकामनाएं दीपावली की...

सदा Mon Nov 12, 11:13:00 am  

वाह ... बहुत खूब

!! प्रकाश पर्व की आपको अनंत शुभकामनाएं !!

Reena Maurya Mon Nov 12, 11:19:00 am  

बहुत ही अच्छे हाइकु ...
अति सुन्दर....
आपको सहपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ..
:-)

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) Mon Nov 12, 12:49:00 pm  

आम आदमी
लगा रहा हिसाब
कैसे हो पर्व ?

बहुत सही बात कही आंटी!
दीपोत्सव की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

सादर

नादिर खान Mon Nov 12, 12:58:00 pm  

आई दिवाली
संग खुशियाँ लाई
दीदी बधाई

Rajesh Kumari Mon Nov 12, 02:06:00 pm  

आपको दिवाली की शुभकामनाएं । आपकी इस खूबसूरत प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार 13/11/12 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आप का हार्दिक स्वागत है

रश्मि प्रभा... Mon Nov 12, 02:12:00 pm  

माटी का दिया
एक रात की उम्र
ज्योति से भरा । ..... कितनी बड़ी बात है ये - दिवाली की शुभकामनायें

वन्दना Mon Nov 12, 04:22:00 pm  

बहुत खूबसूरत प्रस्तुति

दीप पर्व की आपको व आपके परिवार को ढेरों शुभकामनायें

मन के सुन्दर दीप जलाओ******प्रेम रस मे भीग भीग जाओ******हर चेहरे पर नूर खिलाओ******किसी की मासूमियत बचाओ******प्रेम की इक अलख जगाओ******बस यूँ सब दीवाली मनाओ

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) Mon Nov 12, 07:03:00 pm  

सुन्दर प्रस्तुति!
--
दीवाली का पर्व है, सबको बाँटों प्यार।
आतिशबाजी का नहीं, ये पावन त्यौहार।।
लक्ष्मी और गणेश के, साथ शारदा होय।
उनका दुनिया में कभी, बाल न बाँका होय।
--
आपको दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

Kunwar Kusumesh Mon Nov 12, 07:38:00 pm  

मुबारक हो
परिवार सहित
दीवाली पर्व

Suman Tue Nov 13, 07:08:00 am  

बम - पटाखे
क्षण भर की खुशी
धुआँ ही धुआँ ।
sahi hai badhiya haiku..

संध्या शर्मा Tue Nov 13, 07:21:00 am  

मंगलमय हो दीपों का त्यौहार... आपको व आपके समस्त परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें......

सूर्यकान्त गुप्ता Tue Nov 13, 08:38:00 am  

सुन्दर अनूठा शुभकामना सन्देश

हरे माँ लक्ष्मी हर का क्लेश

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं ...

Kailash Sharma Tue Nov 13, 03:56:00 pm  

बहुत खूब! आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं!

प्रवीण पाण्डेय Wed Nov 14, 09:31:00 am  

खुशियों के तराजू में जीवन का हिसाब..

राजेश उत्‍साही Wed Nov 14, 02:42:00 pm  

शुभकामनाएं दीपावली की आपको भी।

sushila Wed Nov 14, 05:21:00 pm  

बहुत सुंदर हाइकु । दीपोत्सव पर हार्दिक शुभकामनाएँ संगीता जी !

महेन्द्र श्रीवास्तव Wed Nov 14, 05:39:00 pm  

बहुत सुंदर रचना
क्या कहने

expression Wed Nov 14, 11:01:00 pm  

बहुत सुन्दर जगमगाते हुए हायकू....
आपको भी दीपोत्सव की अनेक शुभकामनाएँ दी...

सादर
अनु

प्रतिभा सक्सेना Thu Nov 15, 02:30:00 am  

दीपों की पाँत,
शब्द-शब्द में सँदेश ,
हो गया प्रकाश !

Anju (Anu) Chaudhary Thu Nov 15, 09:15:00 pm  

जगमग जगमग ...हाइकु

शुभकामनाएँ

vandana Sat Nov 17, 06:14:00 am  


माटी का दिया
एक रात की उम्र
ज्योति से भरा ।


बहुत सुन्दर

Bhola-Krishna Sun Nov 18, 08:38:00 am  

संगीता जी , सुंदर सार्थक रचना !
मन दीपक जल कर फैलाता चारों दिश उजियारे
स्नेह भरा अंतर भर देता खाली दीपक सारे
==और फिर खुशियाँ ही खुशिया ! ==
श्रीमती कृष्णा एवं व्ही एन श्री.भोला

Dr.NISHA MAHARANA Mon Nov 19, 04:55:00 pm  

bahut acche hiku ....dil khush ho gaya .....

Dr (Miss) Sharad Singh Wed Nov 21, 11:56:00 am  

जगमग ज्योति-से हायकू....

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये ....

Virendra Kumar Sharma Wed Nov 21, 07:28:00 pm  

भाव पूर्ण अर्थ समेटे जगती का बढ़िया हाइकु .

Virendra Kumar Sharma Thu Nov 22, 02:53:00 pm  

आपके मनहर हाइकु और उत्साह बढ़ाती टिप्पणियाँ सदैव ही प्रतीक्षित रहतीं हैं .आभार .

आशा बिष्ट Thu Nov 22, 09:17:00 pm  


माटी का दिया
एक रात की उम्र
ज्योति से भरा ।..sundar

आशा जोगळेकर Fri Nov 23, 10:48:00 pm  

हम दीप की तरह बनें । स्वयं कष्ट सह कर दूसरों को आनंद दें । प्रदूषण से बचें । आम आदमी की तकलीफ ,सब कुछ कहते सुंदर प्रकाशमान हाइकू ।

उपेन्द्र नाथ Mon Nov 26, 07:31:00 pm  

sabhi hayku ek se badhkar ek... bahut sunder.

ताऊ रामपुरिया Fri Dec 07, 08:15:00 pm  

बहुत सुंदर, इन्हें पढकर ही दीपावली जगमगा उठी, हार्दिक शुभकामनाएं.

रामराम.

ताऊ रामपुरिया Fri Dec 07, 08:15:00 pm  

बहुत सुंदर, इन्हें पढकर ही दीपावली जगमगा उठी, हार्दिक शुभकामनाएं.

रामराम.

दिगम्बर नासवा Sat Dec 08, 02:25:00 pm  

विविध रंगों में रंगे ... लाजवाब हाइकू ...

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP