copyright. Powered by Blogger.

शबनम .

>> Friday, 5 March 2010


समंदर छलका



जो आँखों का


तो,


बह आई एक लहर


मन के साहिल की


तपती रेत पर


पड़ गयी हो


जैसे शबनम .
 
 
 
 
 
 
 
 
 

11 comments:

मनोज कुमार Fri Mar 05, 02:14:00 pm  

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
इसे 06.03.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह ०६ बजे) में शामिल किया गया है।
http://chitthacharcha.blogspot.com/

रचना दीक्षित Fri Mar 05, 02:24:00 pm  

बहुत प्रभावशाली रचना सुंदर दिल को छूते शब्द

shikha varshney Fri Mar 05, 02:50:00 pm  

बहुत सुन्दर भाव

ताऊ रामपुरिया Fri Mar 05, 03:17:00 pm  

बहुत ही खूबसूरत रचना.

रामराम.

अनामिका की सदाये...... Fri Mar 05, 11:59:00 pm  

क्यों न इसे पूरी एक कविता का रूप दे दिया जाये..
बहुत अच्छी शुरुआत हे...आगे कोशिश करो लिखने की...अच्छी कविता बन जाएगी...इंतजार रहेगा..

सुलभ § सतरंगी Sat Mar 06, 01:29:00 pm  

आनामिका जी से सहमत!

Indranil Bhattacharjee Sat Mar 06, 08:13:00 pm  

आप इतने कम शब्दों में इतना कुछ कह गए....!

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP