copyright. Powered by Blogger.

बारिश

>> Wednesday, 31 March 2010


बिखरे वजूद के



अक्स को समेट


लरजती हुई


साँसों से


घायल से जज़्बात लिए


एक छटपटाती


सी नज़्म


तैर गयी है


मेरी सूनी


आँखों में ,


इस बार


बारिश नहीं हुई
 
 
 
 
 

Read more...

कल्पना का इन्द्रधनुष

>> Wednesday, 24 March 2010


कल्पना के



इन्द्रधनुष को


किसी क्षितिज की


दरकार नहीं


ये तो


उग आते हैं


मन के


आँगन के


किसी कोने में ....


http://blog4varta.blogspot.com/2010/03/4_25.html

Read more...

हुनर

>> Saturday, 20 March 2010


उदासी सी मन पर



यूँ ही उतर आई


किसी ने कहा कि


ये भी एक हुनर है .




जो सीख लें हुनर तो


बुराई क्या है


हर हुनर को सीखने का


हौसला होना चाहिए
 
 
 
 
 

Read more...

नमक

>> Wednesday, 17 March 2010



समझौतों ने कभी भी
मरहम नहीं लगाया
मन की
दरार पर



ये तो
वो नमक है
जो लोग लगा देते हैं
अक्सर जख्म पर ,

Read more...

वजूद

>> Thursday, 11 March 2010



वजूद के टुकड़े

क्या बांटेंगी

उदास शामें

और ग़मज़दा रातें




जिसने

टुकड़े टुकड़े

जोड़ कर ही

बनाया हो

वजूद अपना .




Read more...

ख़्वाबों की कश्ती

>> Sunday, 7 March 2010



ख़्वाबों को कश्ती में


डाल कर

उतार दिया है

इस जहाँ के

दरिया में

मंझधार से बचे

तो बेड़ा पार लगे.

Read more...

शबनम .

>> Friday, 5 March 2010


समंदर छलका



जो आँखों का


तो,


बह आई एक लहर


मन के साहिल की


तपती रेत पर


पड़ गयी हो


जैसे शबनम .
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Read more...

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP