copyright. Powered by Blogger.

चमक

>> Friday, 15 January 2010



हथेलियों ने



सहला दिया था


आँखों को


और समेट लिए थे


सारे मोती


वापस आ गयी है


आँखों में


फिर से वो चमक


जिसकी रोशनी में


तुम नहाया करते थे

5 comments:

shikha varshney Fri Jan 15, 03:37:00 pm  

ओये तेरी................ क्या वाकई.? कितने गहरे भाव समेटे हैं ये चाँद पंक्तियाँ...बहुत सुंदर.

मनोज कुमार Fri Jan 15, 11:39:00 pm  

वाह. बहूत खूबसूरत .

अनामिका की सदाये...... Sun Jan 17, 08:14:00 pm  

hatheliyo se sehla kar ankho k sare moti samaitne ka shabdo ka prayog bahut acchha aur naya laga.

रचना दीक्षित Mon Jan 18, 03:48:00 pm  

हथेलियों ने
सहला दिया था
आँखों को
और समेट लिए थे
सारे मोती
हथेलियों ने
वाह !!!!! क्या क्या कह दिया.

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP