copyright. Powered by Blogger.

ऐतबार

>> Friday, 8 January 2010






ख्वाहिशे सुलगती हैं




दिल बेचैन है




नजारों पर नज़रें




टिकती नहीं हैं




ऐतबार भी नहीं




अब तो




किसी पैगाम पर




रात के बाद




सुबह होती नहीं है

2 comments:

Apanatva Fri Jan 08, 04:10:00 pm  

ye kya ?
ye kyoo?
ye kiskar ???

अनामिका की सदाये...... Tue Jan 12, 10:45:00 pm  

areyyyyyyyyyyyyy itni paigam k liye jaddojehed....ch.ch.ch...pehle batana tha na....
khoobsurat abhivyakti.

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP