copyright. Powered by Blogger.

घुंघरू

>> Thursday, 21 January 2010




ख़ामोशी के घुंघरू भी



करते हैं बहुत शोर


कभी कभी


महफ़िल में भी


तन्हाई होती है


चारों ओर .

16 comments:

shikha varshney Thu Jan 21, 04:21:00 pm  

ekdam sachchi baat...tabhi main ghungroo nahi pahanti bahut shor karte hain..

अनामिका की सदाये...... Thu Jan 21, 04:53:00 pm  

aapki ye lines bahut khoobsurat hai..me jara 2 line apni bhi mila du..aapki rachna ko ek nazm bana du..

maine likhi do line ab aage ki kadi tum mila do..


ghunghru bajne de..
khamoshi ko sunNe de..
mehfil me kya rakha hai..
tanha ko tanhayi se milne de.

Harsh Thu Jan 21, 10:10:00 pm  

rachna achchi lagi..........

sada Sat Jan 23, 03:08:00 pm  

बहुत ही बेहतरीन ।

लोकेन्द्र Sat Jan 23, 10:03:00 pm  

सच कहा आपने...

महफ़िल में भी
तन्हाई होती है

निर्मला कपिला Mon Jan 25, 07:29:00 pm  

वाह क्या सही कहा है गागर मे सागर शुभकामनायें

रंजना [रंजू भाटिया] Tue Jan 26, 09:59:00 am  

बहुत बढ़िया कम लफ़्ज़ों में पूरी बात कह दी है आपने शुक्रिया

वन्दना अवस्थी दुबे Tue Jan 26, 11:19:00 pm  

क्या बात है संगीता जी.बहुत खूब.
गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें.

Avinash Chandra Tue Feb 02, 07:54:00 pm  

behad khoobsurat...bahut hi sundar...

Bahut bahut dhanyawaad itni sundar rachna ke liye

सुनीता शानू Sun Jul 31, 07:02:00 am  

आज फ़िर खेली है हमने लिंक्स के साथ छुपमछुपाई चर्चा में आज नई पुरानी हलचल

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) Sun Jul 31, 10:07:00 am  

बेहतरीन कविता है।

सादर

वीना Sun Jul 31, 01:56:00 pm  

ग़ज़ब की अभिव्यक्ति है....

वन्दना Sun Jul 31, 03:01:00 pm  

सच भीड मे भी अकेला ही होता है इंसान्……………गागर मे सागर भर दिया।

अनुपमा त्रिपाठी... Sun Jul 31, 04:12:00 pm  

घुँघरू करते ही हैं शोर ...फिर ख़ामोशी के ही क्यों न हों ...!!
बहुत सुंदर बात ...और गहराई लिए हुए ...

Mukesh Kumar Sinha Sun Jul 31, 05:23:00 pm  

ghunghroo ki tarah bajta hi raha hoon main:)

Dorothy Sun Jul 31, 07:58:00 pm  

गहन भावों की खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
सादर,
डोरोथी.

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP