copyright. Powered by Blogger.

यादों की पोटली

>> Tuesday, 19 January 2010








यादों की पोटली



जब सिरहाने रखी


तो विस्मृत सी बातें


निकल आयीं उसमें से,


और नींद आँखों से


कोसों दूर हो गयी.



7 comments:

shikha varshney Tue Jan 19, 03:38:00 pm  

yahi hota hai ..isliye kehte hain kholni hi nahi chahiye yaadon ki potli...

Apanatva Tue Jan 19, 03:50:00 pm  

...ye to hona hee tha.............:)

मनोज कुमार Tue Jan 19, 10:35:00 pm  

वैचारिक ताजगी लिए हुए रचना विलक्षण है।

सुलभ 'सतरंगी' Wed Jan 20, 12:01:00 pm  

और नींद आँखों से
कोसों दूर हो गयी.

ऐसा होता रहता है.

क्षणिका खूब कही आपने.

निर्मला कपिला Wed Jan 20, 06:49:00 pm  

बहुत खूब ये यादों की पोतली सोने कब देती है। सुन्दर रचना बधाई

अनामिका की सदाये...... Wed Jan 20, 06:51:00 pm  

arey mujhe ye pic dekh kar to do bate dimag me aa rahi hai..ek to ye potli ya to sudama ki hai.. jisme chawal the krishn k liye

dusra ya ye potli paiso se bhari aapki he jise me utha k bhaag jau aisa dil kar raha hai.

ab apke motiyo par...

yado ki potli
sirhane na rakho
dil se laga lo
pyar ka pani do
aur rishto ko
khushiyo se bhar do.

varnaaaaaaaaaaaaaaa neend to aa hi nahi payegi...ha.ha.ha.

Babli Thu Jan 21, 12:59:00 pm  

आपको और आपके परिवार को वसंत पंचमी और सरस्वती पूजन की हार्दिक शुभकामनायें!
बहुत ही सुन्दर रचना लिखा है आपने!

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP