copyright. Powered by Blogger.

ज़ख्म

>> Thursday, 16 October 2008

वक्त ने बेरहमी से ज़ुल्म ढाया है
फिर भी हमने अपना प्यार निभाया है
तंज़ नही दे रहे है हम किसी को
दिल के हाथों ये ज़ख्म मैंने खाया है
.

1 comments:

Anamika Thu Apr 16, 12:52:00 pm  

aa jaan tere jakhmo ko hawa du..
waqt ki berehmi ko me ye saza ju..
jisne tera aaj nazuk dil dukhaya he..
usko main bad-dua bechainiyo ki de du..

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP