copyright. Powered by Blogger.

अंधेरे

>> Thursday, 16 October 2008

अंधेरे मेरी ज़िन्दगी में जो इतने हैं,

कि अब किसी रोशनी से दिल घबराता है,

मुझे मेरे साये से लिपटे रहने दो,

किसी के होने के अहसास से दिल घबराता है।

1 comments:

taanya Wed Oct 22, 05:10:00 pm  

अंधेरे मेरी ज़िन्दगी में जो इतने हैं,
कि अब किसी रोशनी से दिल घबराता है,
मुझे मेरे साये से लिपटे रहने दो,
किसी के होने के अहसास से दिल घबराता है।

in adhero me zindgi mat dhundo..
ki roshni hi kaam aayegi..
saaya bhi saath chhod jayega..
tb logo ki bheed kaam aayegi..

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP