copyright. Powered by Blogger.

ज़रूरत

>> Friday, 17 October 2008

जब मैंने कहा था कि मुझे तेरी ज़रूरत नही,
न ही तेरी आरजू है और तेरी चाहत भी नही ,
तेरे अश्कों की कतारों ने मुझे यूँ भिगो डाला ,
आज तू मेरी ज़रूरत है पर तू मेरे साथ नही।

6 comments:

taanya Sat Oct 18, 09:57:00 am  

जब मैंने कहा था कि मुझे तेरी ज़रूरत नही,
न ही तेरी आरजू है और तेरी चाहत भी नही ,
तेरे अश्कों की कतारों ने मुझे यूँ भिगो डाला ,
आज तू मेरी ज़रूरत है पर तू मेरे साथ नही।

jarurat kabhi batayi nahi jati..
aarzoo ya chaahat bhi chhupayi nahi jati..
mana mere ashko ne tujhe bhigoya hai..
mana mere duri ne tujhe toda hai...
magar har lamha maine tujhi ko pyar kiya hai..
har lamha maine tere hi bas tera hi sath manga hai...!!

sangeeta ji in shero ko anyetha na le pls. bas jawaab maatr hai..

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) Sun Nov 13, 12:40:00 pm  

कल 14/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

अनुपमा पाठक Mon Nov 14, 05:46:00 am  

सब समय का ही तो खेल है!
सुंदर पंक्तियाँ!

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') Mon Nov 14, 08:32:00 am  

वाह! सुन्दर...
सादर...

"पलाश" Mon Nov 14, 06:29:00 pm  

bahut sahee kahaa aapane .. aksar esa hota hai , magar samay gujar jaane k baad ham bas yahee sochate rah jaate hai aur hamaari yaadon mai aa kar wo hamase kahate hai ki ......
याद करो जब हमने तुमको

रो रो करके पुकारा था

बेबस और लाचार से थे हम

और वो वक्त तुम्हारा था

आज समय ने फिर से देखो

अपनी करवट बदली है

बुला रहे तुम रो कर हमको

और हमने नजरें फेरी है

POOJA... Tue Nov 15, 01:04:00 am  

na jane kyu
hamesha hi aisa hota hai
jab sab hote hain tab tu bhi hota hai
par jab koi nahi
tab tu bhi nahi hota...

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP