copyright. Powered by Blogger.

पैगाम

>> Friday, 17 October 2008

हर आह्ट पे लगता है कि आया है पैगाम,
मदहोश तेरे नशे में बिना पिए ही जाम ,
सूरत तेरी हटती नही मेरी नज़रों के सामने से,
हर बात से पहले आता है तेरा नाम।

1 comments:

taanya Sat Oct 18, 09:39:00 am  

pyar ka nasha hai jan-e-janib..
aise to na jayega lab se naam..
yaad karne ki jarurat hi nahi..
zarre-zarre me basa ho jb uska naam..!!

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP