copyright. Powered by Blogger.

दस्तक

>> Thursday, 16 October 2008

दिल ने फिर तेरे दिल पर दस्तक दी है
तन्हाई ने फिर मुझे एक कसक दी है
चाहूँ मैं तेरी बाहों में सिमट जाना
ख़्वाबों ने मुझे तेरी कशिश दी है

1 comments:

taanya Thu Oct 30, 12:52:00 pm  

दिल ने फिर तेरे दिल पर दस्तक दी है
तन्हाई ने फिर मुझे एक कसक दी है
चाहूँ मैं तेरी बाहों में सिमट जाना
ख़्वाबों ने मुझे तेरी कशिश दी है

uski baaho me simat tum u sakoon paya karo..
chaand taaro ke falak me u khaab dekha karo..
dil jab bhi dil ko pukara kare..
khaabo ki dulhan ban baaho me u samaya karo..!!

About This Blog

Labels

Lorem Ipsum

ब्लॉग प्रहरी

ब्लॉग परिवार

Blog parivaar

हमारी वाणी

www.hamarivani.com

लालित्य

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP